Thursday, July 18, 2024
Google search engine
HomeLocalMadhya PradeshBhopal remain Second In The Country In Oral Cancer

Bhopal remain Second In The Country In Oral Cancer

अनदेखी का नासूर, भोपाल में कैंसर मरीजों को अस्पतालों में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें अब अन्य राज्यों में उपचार के लिए जाना पड़ रहा है। भोपाल में कोई डेडिकेटेड कैंसर अस्पताल नहीं है, जिससे मरीजों को और भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। इस समस्या के बीच, ओडिशा में डेडिकेटेड कैंसर अस्पताल की योजना शुरू की गई है।

भोपाल में ब्रेस्ट, जीभ, और सर्वाइकल कैंसर के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन यहाँ कोई विशेष अस्पताल नहीं है जहाँ ये रोगियों का उपचार किया जा सके। महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले 33.9% बढ़ रहे हैं, जबकि पुरुषों में मुँह कैंसर के मामले 16.3% बढ़ रहे हैं।

इस समस्या को हल करने के लिए, एक डेडिकेटेड कैंसर अस्पताल की आवश्यकता है जहाँ रोगी एक ही स्थान पर सभी जांचें और उपचार प्राप्त कर सकें। अस्पताल में उन्हें सीटी स्कैन, एमआरआई, पीईटी स्कैन, अल्ट्रासाउंड, और एक्स-रे की सुविधा मिलनी चाहिए, साथ ही उन्हें एडवांस जेनेटिक टेस्ट भी कराए जा सकें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments